सोशल मीडिया द्वारा क्राउड फंडिंग से सिर्फ 5 रुपये में एक हजार लोगों को भरपेट भोजन

नैनीताल। एक रिक्शा चालक अपनी प्लेट का पूरा खाना खत्म करने के बाद संतोषजनक डकार लेता है, इसके बाद वह मिड डे मील देने वाले समूह को दुआ देता है। रिक्शा चालक प्रवासी है जो उन हजारों लोगों में से है जिन्हें दिन के वक्त का खाना ‘थाल सेवा’ समूह द्वारा मिलता है। इस भरपेट भोजन के लिए उन्हें सिर्फ 5 रुपये अदा करने होते हैं और खाना भी विशेष खानसामाओं की निगरानी में तैयार किया जाता है। थाल सेवा स्थानीय नागरिकों की एक पहल है जिसे सोशल मीडिया द्वारा क्राउड फंड किया जाता है। हल्द्वानी के 10 नागरिकों के समूह ने एक साथ मिलकर यह सेवा चलाई है जिसमें 400 ग्राम मात्रा में चावल, सब्जी, दाल और सलाद होती है। इस ग्रुप के फाउंडर में हाउसवाइव्स, प्रफेशनल और स्थानीय व्यापारी भी शामिल हैं जो वॉट्सऐप और फेसबुक के जरिए फंड इकट्ठा करते हैं।

बीमार लोगों से नहीं लेते हैं खाने के पैसे
उन्हें इस नेक काम की बदौलत उन्हें कनाडा, दुबई और मॉरीशस से भी डोनेशन मिलता है। इस पहल का नेतृत्व करने वाले दिनेश मनसेरा बताते हैं, ‘हमने इस विचार के साथ इस मुहिम की शुरुआत की कि जो लोग अपने पारिवारिक सदस्य या किसी रिश्तेदार का हल्द्वानी के सरकारी अस्पताल में इलाज कराने आते हैं, उनको भोजन उपलब्ध कराया जा सके।’ वह आगे कहते हैं, ‘उनमें से कई ऐसे हैं जो भरपेट भोजन नहीं वहन कर सकते। इस तरह हमने प्रॉजेक्ट का स्कोप बढ़ाकर उन सभी लोगों को इसमें शामिल किया जिन्हें उचित मात्रा में भोजन नहीं मिल पाता है।’ अस्पताल में अफने किसी करीबी का इलाज कराने आए पान सिंह बताते हैं, ‘मील सर्विस उन लोगों के लिए बड़ी मदद है जिन पर अपने किसी पारिवारिक सदस्य की देखभाल करने का जिम्मा होता है।’ सोशल मीडिया में इस पहल को देखकर डोनेट करने वाले स्कॉटलैंड के सॉफ्टवेयर इंजिनियर आतिन अरोड़ा बताते हैं, ‘इस तरह दान करना संतोषजनक है जिससे लोगों को मदद मिले।’ यह समूह विकलांगों और मानसिक रूप से बीमार लोगों से पैसे नहीं लेता है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *